पठन कौशल: जफर खान


दैनिक पढ़ना सबसे अच्छी आदतों में से एक है जिसे कोई भी कर सकता है यह हमारी कल्पना को विकसित करता है | हमको ज्ञान का सौभाग्य प्रदान करता है | खाली समय में पुस्तकें पढ़ने वाले लोगों का समय उपयोग भी हो जाता है | पुस्तकें सूचना और ज्ञान एक समृद्ध स्रोत हैं विविध शैलियों पर पुस्तकें पढ़ना जानकारी प्रदान करता है | और हमको उस विषय की गहरी जानकारी देता है यह एक सिद्ध तथ्य  है कि जिन लोगों में पढ़ने की अच्छी आदत होती है  वे उच्च बुद्धि के लक्षण दिखाते हैं विविध और समृद्ध शैलियों के साथ पुस्तकें मन को खोलती हैं और रचनात्मक क्षमता और भाषा कौशल को बढ़ाती हैं कथा पढ़ने से सहानुभूति विकसित होती हैं | और दूसरों के साथ बेहतर संबंध बनाने में मदद मिलती हैं पढ़ना सबसे सुखद और लाभकारी गतिविधि कहलाती हैं

एक अच्छी पुस्तक पढ़ना तनाव को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है पढ़ने से मन और शरीर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है पुस्तक हमारी सबसे अच्छी साथी हैं अच्छी पुस्तकें हमें सही दिशा में ले जाती है एक अच्छी पुस्तक से बेहतर हमारा कोई और मित्र नहीं हो सकता  कम उम्र से पढ़ने की आदत डालने से हमारे पुस्तकों के प्रति प्रेम भाव बढ़ता है |पढ़ना मस्तिष्क के विकास के लिए महत्वपूर्ण भूमिका प्रदान करता है क्योंकि यह हमारी सोचने समझने की शक्ति को बढ़ाता है तथा विश्लेषणात्मक कौशल को बढ़ाता है | यह मस्तिष्क के कार्य करने की शक्ति  को अधिक विस्तृत करता है  पढ़ने से हमें ज्ञान,जानकारी और नई धारणाएं मिलती है

पढ़ने से हमारा आत्मविश्वास बढ़ता है और हमारा मूड भी ठीक रहता है एक बार जब हम पढ़ना शुरू करते हैं तो हम पुस्तक पढ़ते-पढ़ते इतना खो जाते हैं कि एक पूरी नई दुनिया का अनुभव करने लगते हैं पुस्तक पढ़ना मस्तिष्क के तनाव को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है पढ़ने से रचनात्मकता बढ़ती है  और जीवन के प्रति हमारी समझ बढ़ाती हैं | पढ़ने की आदत हमें लिखने की और प्रेरित  करती है अगर हम जीवन में कुछ नई आदतें  अपनाना चाहते हैं | तब पढ़ना हमारी सूची में सबसे ऊपर होना चाहिए | पढ़ने से आत्म सुधार होता है पुस्तकें हमें संस्कृति, परंपराओं, इतिहास ,भूगोल मनोविज्ञान और जीवन के कई अन्य विषयों और पहलुओं में झलकने में सक्षम बनाती हैं | पढ़ने की खुशी को शब्दों में व्यक्त नहीं किया जा सकता है | पढ़ने की खुशी का अनुभव करने के लिए पढ़ना जरूरी  है  |
Jaffar Khan
zkn4fab@gmail.com

No comments: