Monday, April 6, 2020

कर्तव्यनिष्ठा एवं ईमानदारी: आयशा टॉक


कर्तव्यनिष्ठा अपने कार्य के प्रति सावधान या मेहनती होने के व्यक्तित्त्व की विशेषता है। किसी भी कार्य को पूरी निष्ठा एवं जिम्मेदारी से करना एवं दूसरों के प्रति अपने दायित्वों को गंभीरता से निर्वाह करना। कर्त्तव्यनिष्ठ लोग आसानी से पहचाने जाने और उच्छृंखल होने के विपरीत कुशल और संगठित होते है। सफल लोगों का सबसे महत्त्वपूर्ण गुण ईमानदारी होता है। यह गुण आपको एक मज़बूत नैतिक कम्पास बनाए रखने में मददगार साबित हो सकता हैं। ईमानदार लोग भी नियमों और मानदंडों का पालन करना पसंद करते हैं।  हर कोई व्यक्ति अपनी दैनिक योजनाएँ बनाकर एवं उनके अनुसार अपना कार्यक्रम निर्धारित करें। दैनिक योजना के अनुसार कार्य करना संगठन और आत्म - अनुशासन को प्रोत्साहित करता है। बार - बार अभ्यास के माध्यम से, ये कौशल सीखा जा सकता है और सहज हो सकता है। प्रारंभ में हमें ऐसा लग सकता है कि हम कोई अभिनय कर रहे हैं। 

  यह गुण शिक्षा के क्षेत्र में भी लागू होता है। एक शिक्षक को अपने विद्यार्थियों के प्रति अपनी जिम्मेदारी समझ कर उस के बारे में योजना बना कर विद्यार्थियों की प्रगति के लिए उचित कार्य पूर्ण ईमानदारी एवं    कर्तव्यनिष्ठा के साथ करके विद्यार्थियों के भविष्य को उज्जवल बना सकते है। जब तक कोई भी व्यक्ति अपने कार्य को अपने जीवन का अहम हिस्सा एवं जिम्मेदारी समझेगा तब तक वह उस कार्य में सफल नहीं हो सकता है। इस प्रकार सफलता के लिए ईमानदारी एवं कर्त्तव्यनिष्ठा बहुत आवश्यक है। ये दोनों गुण एक - दूसरे के बिना पूर्ण नहीं हो सकते है। 
Ayasha Tak
atk4Fab@gmail.com
The Fabindia School, Bali

No comments:

Popular posts