Monday, May 25, 2020

सादगी और विश्वास: राजेश्वरी राठौड़

वर्तमान में सादगी का साधारण अर्थ होता है, जैसे आप हो वैसा जीवन जीना। वर्तमान में व्यक्ति स्वयं को अधिक सुंदर, बुद्धिमान बनाने की कोशिश करते हैं और भी कई यत्न करते हैं जिससे कि वे दूसरों को अधिक प्रभावित कर सकें। लेकिन हमें यह समझना आवश्यक है कि "सुंदरता व्यक्ति के शुद्ध  हृदय में निवास करती है ना कि दिखावे मेंहमारी आंतरिक सुंदरता को बढ़ाने हेतु हमें सादगी से जीवन जीना चाहिए। 

सादगी हमारे जीवन में शुद्धता को बढ़ाकर हमारे जीवन के कई दूसरे जीवन मूल्यों जैसे दया, ईमानदारी, सदभाव आदि को विकसित करती है। सादगी वह मूल्य है जो प्रत्येक छात्र में होना चाहिए क्योंकि यह हमें अपने जीवन को उच्च स्तर प्रदान करने मे  सहयोग करता है। हम छात्रों को प्रकृति के पास ले जाकर उन्हें सादगी पूर्ण जीवन की ओर अग्रसर कर सकते हैं

विश्वास का अर्थ होता है, किसी धारणा की व्यक्ति में अटूट आस्था। यह मूल्य हमारे जीवन में निर्णय शक्ति और संबंधों को मजबूत करने में सहायक है एक अच्छे अधिगम हेतु यह आवश्यक है कि छात्रों व शिक्षकों के बीच विश्वास की भावना हो। क्योंकि अधिगम हेतु एक आरामदायक वातावरण का निर्माण करते ही, हम छात्रों में विश्वास के मूल्य के निर्माण हेतु उनको किसी कार्य को करने हेतु नेतृत्व का मौका देना, अपने जीवन अनुभवों को साझा करके, पूर्वाग्रह से मुक्त होकर, छात्र विचार व मत को सुनकर बढ़ा सकते हैं। जब एक छात्र को किसी शिक्षक में विश्वास निर्माण हो जाता है तो यह शिक्षक का कर्तव्य है कि उसे निरंतर बनाए रखें

Rajeshwari Rathore
The Fabindia School, Bali

No comments:

Popular posts