Friday, September 11, 2020

गुणवत्ता और प्रेम: कुसुम डाँगी


किसी व्यक्ति के पास एक विशिष्ट गुण या विशेषता ही गुणवत्ता है हर व्यक्ति में अलग-अलग गुण होते हैं जैसे- कोई खेल में अच्छा है तो कोई शिक्षा में विद्यार्थी में सबसे अच्छा और पहला गुण आदर्श का होना है आदर्श विद्यार्थी वह है जो ज्ञान या विद्या प्राप्ति को जीवन का आदर्श मानता है यह विद्या ही है जो मनुष्य को नम्र, सहनशील और गुणवान बनाती है इस बदलते समय में हम सब को अपने अंदर अतिरिक्त गुणों का विकास करना आवश्यक है उसके लिए सबसे जरूरी है वास्तविक जीवन मूल्यों को समझना जैसे- दूसरों से मधुरता से बात करना अंहकार ना करना आदि।


प्रेम एक एहसास हैं जो दिल से होता हैं। प्रेम स्नेह से लेकर खुशी की और अग्रसर होता हैं इसमें दया भावना आदि होते हैं। यह किसी के लिए भी हो सकता हैं जैसे- माता -पिता, भाई-बहन, शिक्षकों का अपने विद्यार्थियों या किसी जानवर के प्रति हो सकता है सच्चा प्रेम वह है जो सभी हालातों में आपके साथ हो, हर सुख या दुख में आपके साथ खड़ा हो इसके लिए सबसे जरूरी है कि इसमें सच्चाई हो

सबसे जरूरी है कि वो. आपकी इज्ज़त करे क्योंकि जहाँ सम्मान नहीं वहाँ कभी प्रेम नहीं हो सकता और जहाँ सम्मान हो वहाँ सच्चा प्रेम जरूर होता हैं।

शिक्षा में भी प्रेम का महत्वपूर्ण स्थान है। क्योंकि प्रेम के आधार पर ही एक शिक्षक और विद्यार्थी के बीच रिश्ता होता हैं। प्रेम के आधार पर ही उनमें सच्चाई, और विद्यार्थी अपने शिक्षकों का सम्मान करता हैं और उनके अच्छे गुणों को अपने जीवन में अपनाता हैं।
Kusum Dangi
The Fabindia School, Bali

No comments:

Popular posts