Friday, September 11, 2020

गुणवत्ता और प्यार: आयशा टाक


लोग गुणवत्ता को अलग या समान रूप से देख सकते हैं। अधिकांश लोग एक गुणवत्ता वाले उत्पाद को खरीदने या गुणवत्ता सेवा प्राप्त करने की अपेक्षा करते हैं। क्योंकि वे अपने पैसों के लिए अच्छा मूल्य चाहते हैं या उम्मीद करते हैं। गुणवत्ता का मतलब अलग - अलग लोगों के लिए अलग - अलग हो सकता हैं। उदाहरण के लिए, गुणी संगीतकारों को पता हैं कि शास्त्रीय संगीत उच्च गुणवत्ता का है और रैप संगीत गुणवत्ता में कम है। गुणवत्ता का अर्थ है सर्वोत्तम उत्पाद या सेवा को श्रेष्ठ बनाना।

गुणवत्ता का अर्थ है सही समय पर सही काम करना। गुणवत्ता समझौता करने का प्रतिरोध है। गुणवत्ता का मतलब सभी के लिए समान नहीं है। गुणवत्ता एक ऐसा शब्द है जिसका उपयोग हर समय किया जाता है, लेकिन इसका मतलब एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के लिए कुछ अलग हो सकता है। उदाहरण के लिए जैसे - शिक्षा की गुणवत्ता सीधे क्लासरूम की गुणवत्ता से सम्बंधित है।

एक शैक्षिक प्रणाली की ताकत काफी हद तक शिक्षकों की गुणवत्ता पर निर्भर करती है। शिक्षकों को हमेशा छात्रों के दूसरे माता -पिता माना जाता हैं। छात्र हमेशा अपने शिक्षकों से प्रभावित होते हैं, क्योंकि वे अपना अधिकांश समय विद्यालय में अपने शिक्षकों के मार्गदर्शन में बिताते हैं। 

प्यार एक खूबसूरत एहसास है। छोटे बच्चे जो इस दुनिया में प्रवेश करते हैं, वे इस बात से अनजान होते है कि यहाँ क्या होता है ? वे अगर कोई चीज समझते हैं, तो वह प्यार है। माँ - बच्चे का रिश्ता सबसे मजबूत बताया जाता है। इसका एकमात्र कारण प्रेम है।

माँ बच्चे को अपार एवं निःस्वार्थ प्यार करती है और बाद में इस प्यार को प्राप्त करती है। जैसे -जैसे हम बड़े होते हैं, हम दोस्त बनाते हैं, शिक्षकों, रिश्तेदारों, पड़ोसियों और कई अन्य लोगों से परिचित होते हैं। वह कौन - सी चीज़ है जो हमें किसी व्यक्ति की ओर खींचती ? एक दयालु और प्यार करने वाला व्यक्ति सभी से प्यार करता है। उदाहरण के लिए, एक शिक्षक जो प्यार और समर्थन कर रहा है, उसे छात्रों द्वारा प्यार किया जाता हैं। इसके विपरीत जो कठोर है, उसको कोई भी पसंद नहीं करता है। इस प्रकार प्यार हर रिश्ते का आधार है। एक ऐसी जगह जहाँ लोग एक - दूसरे से प्यार करते हैं, शांतिपूर्ण और सुंदर है। 
Ayasha Tak
The Fabindia School, Bali 

No comments:

Popular posts