Monday, July 12, 2021

विचारों की आजादी ही सच्ची आजादी है: उर्मिला राठौड़

"हो सकता है कि मैं आपके विचारों से सहमत न हो पाऊँ। परन्तु विचार प्रकट करने के पके अधिकार की रक्षा करूँगा।" - वाल्टेयर, एक प्रसिद्ध फ़्रांसीसी दार्शनिक। 

इससे मुझे आत्मविश्वास की अनुभूति होती है कि हाँ हम तार्किक या अतार्किक कोई भी बात कहे, जो किसी को पसंआए आए परन्तु हमें अपने विचार प्रकट करने की आज़ादी है

कहा जाता है कि पराधीनता सबसे बड़ा दुःख है जबकि स्वाधीनता अर्थात खुद के अधीन होना सबसे बड़ा सुख है। इस धरा पर सभी प्राणी सुखी होने के लिए आजाद रहना चाहते हैआज़ादी का अर्थ है कि हम स्वतंत्र रहकर काम कर सके, बोसके। स्वाधीनता मानव की ही नहीं बल्कि हर प्राणी मात्र की सहज प्रवृत्ति है। किसी पक्षी को सोने के पिंजरे में भी बंद किया जाए तो वह छटपटाने लगता है जबकि खुले आसमान में रह कर वह प्रसन्न रहता है। 

पराधीन व्यक्ति हमेशा काम करने के लिए दूसरे का मुँह ताकता रहता है, दूसरा जैसा कहे उसी के अनुसार अपना जीवन धकेलने के मजबूहोता है। उसमें तो आत्मसम्मान होता है ही स्वाभिमान, हर वक्त लटका चेहरा, दूसरों के सामने गिड़गिड़ाने जैसे भाव बने रहते हैअब प्रश्न यह है कि जाद देश का निवासी होने से क्या कोई जाद कहलाता है या जादी के सही मायने कुछ और है। यह सत्य है कि जाद देश का वासी होना बड़े गौरव की बाहै पर गौरवान्वित महसूस करने के लिए स्वयं को भी जाद होना जरूरी है। युगों - युगों से अनेक जड़ परम्पराओं का दास बना मानव दासता की उन कड़ी बेड़ियों में जकड़ा हुआ है, अज्ञानता के घने अंधकार में कैद है और बंधनों की चादर कुछ इस प्रकार ओढ़ ली है कि जाद देश का वासी होकर भी सही मायने में आजाद नहीं है। 

संकीर्ण और दकियानूसी सोच के कारण मानव जब तक पुरानी सोच के अनुसार जीवन यापन करता रहता है, वह जाद नहीं कहा जा सकता कहीं कुछ ग़लत होता देखकर उसका विरोध न करें, किसी सामाजिक समस्याओं के खिलाफ अपने भाव व विचार प्रकट न करें तो वह जाद देश में रहकर भी परतंत्र और गुलाम है। विचार जाद होंगे तभी मानव आजाद होगा और विचारों की जादी के लिए प्रयास स्वयं करना होगा।

Urmila Rathore  
The Fabindia School
ure@fabindiaschools.in

No comments:

Blog Archive